Share Market in Hindi । How to Invest In Share Market in Hindi ।

Share market और Stock Market एक ऐसा market है जहां बहुत से कम्पनी के शेयर खरीदे और बेचे जाते है । ये एक ऐसी जगह है जहां कुछ लोग या तो बहुत पैसे कमा लेते है या तो अपने सारे पैसे गवा देते है ।

Share Market In Hindi and How to Invest In Share Market in hindi शेयर मार्केट की जानकारी, कैसे करें यहां कमाई और कैसे बचें रिस्क से यहां निवेश करने से पहले हिंदी में जान लें यह सब पहलू। शेयर बाजार में पैसा बनाना बहुत आसान है उसी प्रकार यहां पैसा खोना भी बहुत आसान है। इससे बचा जा सकता है अगर आप स्वंय शेयर मार्केट के बारे में अधिक से अधिक जानकारी एकत्र करें, शोध करें और दूसरों के दिये टिप्स पर न जायें। 

साधारण आदमी मे निवेश कर सकता है ।

शेयर बाजार एक खतरनाक खेल है, इसमें कूदने से पहले इसके बारे में अधिक से अधिक जानकारी ले लेना बहुत आवश्यक है। मगर इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है कि Share Market में निवेश करने के लिए कोई अलग तरह की प्रतिभा या योग्यता ही चाहिए. कोई भी कोशिश करके जान सकता है कि  और शेयर बाजार की जानकारी ले सकता है.

भारत के स्टॉक एक्सचेंज Stock Exchanges in India

शेयर बाजार का कारोबार स्टॉक एक्सचेंजों पर ही होता है। भारत के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज हैं BSE (मुम्बई स्टाक एक्सचेंज) और NSE ( नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) । BSE यानी मुम्बई स्टॉक एक्सचेंज दुनिया के पुराने स्टॉक एक्सचेंजों में से एक है। भारत के दोनों स्टॉक एक्सचेंज आधुनिक तकनीक से कंप्यूटर नेटवर्कों पर काम करते हैं। शेयर मार्केट वास्तव में कंप्यूरों का नेटवर्क है जिस पर शेयर खरीदने और बेचने वाले अपने ब्रोकरो के द्वारा निवेशक ऑर्डर करते हैं जिनका उच्च श्रेणी के सॉफ्टवेयर द्वारा तीव्र गति से मिलान किया जाता है।

कैसे शुरू करें निवेश, How to Invest In Share Market in Hindi

Share Bazaar में निवेश करने के लिए हमको शेयर बाज़ार में लिस्टेड कंपनी के शेयर खरीदने होते हैं। जैसे कि हमने पहले भी बताया कि शेयर खरीदने और बेचने के लिए हमे एक Share Broker की जरुरत होती है। हम सीधे शेयर मार्केट में नहीं जा सकते, शेयर ब्रोकर के माध्यम से ही हम शेयर मार्केट से कोई भी शेयर ख़रीद और बेच सकते है। शेयर ब्रोकर Investor को शेयर मार्केट तक पहुंचाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

Share Market मे डीमेट और ट्रेडिग अकाउंट क्या है।

इसके लिये आपको किसी ब्रोकर से मिल कर उसके पास ट्रेडिंग अकाउंट खुलवाना होगा। आपके पास डीमैट खाता भी होना चाहिये। कई बैंक भी ब्रोकर का काम करते हैं और वहां जा कर आप थ्री इन वन खाता भी खुलवा सकते हैं जिसमें सेविंग खाता, डीमैट खाता और ट्रेडींग खाता शामिल होता हें। इसके लिये आपको वार्षिक चार्ज देने पड़ सकते हैं। शेयर खरीदने और बेचने के लिये भी ब्रोक्रेज देना होता है। ऑनलाईन ब्रोकरेज सर्विस लेकर भी आप निवेस कर सकते है । इसके भी कई एप्प मौजूद है ।

ऑनलाइन- ZERODHA

शेयर मार्केट के रिस्क को कम करने का गुरु मंत्र

अक्सर ऐसा सुनने मे आता रहता है कि कैसे कोई रातों रात शेयरों में पैसा लगा कर अमीर बन गया। और कुछ ही समय में दो गुना, तीन गुना या कई गुना हो गया। इससे उलट यह भी सुना होगा कि कैसे कोई शेयर बाजार में निवेश कर के बहुत घाटे में आ गया। हमारा उद्देश्य होना चाहिए कि इस फ़ायदे और घाटे में संतुलन बना कर अपने निवेश पर ऐसा रिटर्न निरंतर प्राप्त कर सकें जिससे हमारा निवेश अधिक रिस्क में ना फँसे। इसके लिये हमेशा याद रखने वाली बात जब शेयर बाजार तेजी से बढ रहा हो और हर कोई शेयर बाजार मे पैसा लगाने के लिये उतावला हो तब आपको ऐसे समय पर रुक जाना चाहिये लालच नही करना चाहिये बल्कि यही सही समय होगा कि आप अपने लाभ को निकाल ले और इंतजार करे बाजार मे गिरावट का और पैसा लगाने का यही वो गुरुमंत्र है । जो आपको कभी शेयर बाजार मे नुकसान की राह पर नही ले जायेगा ।

Share Market मे अपनी उम्र के हिसाब से रिस्क लेना

Share Market investors age in Hindi शेयर बाजार  उम्र का पहिया कैसे काम करता है । यहां आपको यह भी समझने की आवश्यकता है कि निवेशक की उम्र के साथ साथ कैसे उसका रिस्क प्रोफ़ायल भी बदलता है। कम उम्र का निवेशक अधिक रिस्क ले कर आक्रामक रूप से निवेश कर सकता है क्योंकि उसके पास अधिक कमाई करने के लिए अभी बहुत समय है और हो सकता है कि उस पर बहुत अधिक जिम्मेदारियाँ ना हों। 40 से 50 की उम्र तक आते आते रिस्क लेने की क्षमता कम हो जाती है और ज़िम्मेदारियाँ बढ़ जातीं हैं। इस उम्र में डिफ़ेंसिव हो कर कैसे निवेश करें यह भी समझना आवश्यक है।

आयु और 100 का फार्मुला

आम तौर पर कहा जाता है कि अपनी उम्र को सौ में से घटा दीजिये और जो बचे अपने निवेश का उतने प्रतिशत शेयर बाजार में निवेश करें। उदाहरण के लिये यदि आप की उम्र 25 साल है तो 100 में से 25 घटाने से 75 बचेगा। तो 25 कि आयु में अपनी बचत का 75% शेयर बाजार में निवेश करना चाहिये। इसी प्रकार 60 की उम्र में 40% निवेश शेयरों में करना चाहिये।

पैसे को डाइवर्सिफाई कीजिए और शेयर मार्केट में रिस्क से बचिए ।

Diversification in Share Market  स्टाक मार्केट मे अलग अलग तरह की कम्पनिया होती है । कुछ का पिछला पर्फार्मेंस अच्छा होता है तो कुछ का खराब। निवेश के समय चयन करते हुए इस बात ख्याल रखा जाता है कि अलग अलग तरह की कंपनियों में निवेश कर ऐसा पोर्टफोलियो बनाना चाहिये जिससे रिस्क को कम किया जा सकता है इसके लिये हमेशा एक ही शेयर मे काफी पैसा नही लागाना चाहिये । एक साथ भी बहुत अधिक पैसा एक ही शेयर मे नही लागाना चाहिये पैसो का हमेसा कई शेयरो मे बांट कर रखना चाहिये और पैसा धीर धीरे बाजार मे सही समय देखते हुए निवेश करना चाहिये ।

डिविडेन्ट कब मिलता है ।

जब तक Share Market में ट्रेडिंग चलती है, शेयरों की कीमत पल पल मांग और पूर्ति के अनुसार घटती बढ़ती रहती है। हर कोई इस उम्मीद से शेयर खरीदता है कि उसके शेयर की कीमत बढ़ेगी और वह बढ़ी हुई कीमतों पर अपने शेयर को बेच पायेगा। लंबी अवधी तक किसी कंपनी के शेयर अपने पास रख कर शेयर होल्डर कंपनी के विकास में उसका भागीदार बनता है और उसका लाभ बढ़ी कीमतों के रूप में प्राप्त करता है। कंपनियां अपने लाभ को शेयर होल्डरों के साथ डिविडेन्ट बोनस के रूप में बाँटतीं हैं।

शेयर बाजार मे तेजी और मंदी Bulls and Bears

शेयर बाजर मे उतार चढाव आते ही रहते है । आपने बुल और वियर के बारे में सुना होगा। बाजार में तेजी और मंदी के दौर चलते हैं। तेजी के समय को बुल मार्केट और मंदी को बियर मार्केट कहते हैं। हो सकता है कि तेजी के माहोल में घटिया शेयर भी अच्छा प्रदर्शन करने लगें और मंदी में बढ़िया शेयर भी नीचे का रुख करने लगें। मगर लंबी अवधि में किसी भी शेयर की कीमत आमतौर पर कंपनी की पर्फॉर्मेंस के अनुसार ही अपने सही लेवल पर पहुंच जाती है।

(PERSONAL FINANCE) पर्सनल फ़ाइनैन्स

शेयर बाजार के अलावा मैं आपको यहाँ हिंदी में बताऊंगा निवेश के और भी तरीके और  MUTUAL FUND  के बारे में भी । इसके आलावा जानिये टैक्स बचाने के तरीके INCOME TAX साथ ही पैसा बचाने के तरीके और फाइनेंस जगत की तमाम छोटी बड़ी जानकारियाँ हिंदी में शेयर बाज़ार में निवेश करने का सबसे आसान तरीक़ा है म्यूचूअल फ़ंड के ज़रिए निवेश करना। यहाँ हमारा अलग से पूरा एक वर्ग म्यूचूअल फ़ंड्ज़ को समझने और उनके बारे में जानकारी देने का भी है।

इस आर्टीकल की मदद से हम समझते है कि आपको काफी कुछ समझ आया होगा कि शेयर मार्केट क्या होती है । कैसे काम करती है । और इसमे निवेका लाभ और हानि क्या हो सकते है । आपको यह आर्टिकल पसन्द आया हो तो आप अपने दोस्तो और परिजनो को भी इससे अवगत कराये और आप इस पोस्ट को शेयर भी कर सकते है । धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *