कोरोनावायरस: Share Market After Lockdown Hindi । शेयर बाजार in Lockdown

आज की स्थिति को देखते हुए यह माना जा सकता है । कि Share Market After Lockdown लॉकडाऊन पूरी तरह खुलने मे भी अभी समय लग सकता है । lockdown हटने के बाद शेयर बाजार मे मंदी देखने को मिल सकती है । और यह मंदी लगभग 3 से 6 माह तक ठहर सकती है । इसके पीछे बहुत से कारण है । अभी तो यह पाना भी मुश्किल है कि लॉकडाऊन भी पूरी तरह कब तक हटेगा । क्यो कि lockdown भी धीरे धीरे कुछ शर्तो पर ही हटाया जा रहा है ।

अभी अच्छे शेयरों का हाल-

कुछ दिग्गज शेयरों की बात करें तो इंडसइंड बैंक, सन फार्मा, इंफोसिस, बजाज फिन्सर्व, हिंडाल्को, एनटीपीसी, एचडीएफसी, डॉक्टर रेड्डी और इंफ्राटेल के शेयर हरे निशान पर खुले। वहीं ग्रासिम, जेएसडब्ल्यू स्टील, गेल, भारती एयरटेल, आईओसी और कोटक महिंद्रा बैंक के शेयर लाल निशान पर खुले। यह अभी कुछ दिन ऐसे ही परफोर्म करेगे । ऐसा माना जा सकता है ।

विश्व के सभी बाजारो का हाल-

अमेरिकी Share Market After Lockdown डाउ जोंस की जो स्पथित होगी उसी पर हमारा शेयर बाजार भी कुछ हद तक निर्भर करता है । साथ ही फिलहाल यूरोपियन शेयर बाजार में भी तेजी दर्ज की गई। आमतौर पर देखा जाये तो अभी कुछ महीने शेयर बाजार मे मंदी ही देखने को मिल रही है । पर यह मंदी धीरे धीरे रफ्तार पकडने की कोशिश मे जरूर नजर आ रही है ।

EMI Moratorium- 3 महीने की EMI छूट का सच

कोरोना वायरस का बाजार में असर

पूरे विश्व मे तथा हमारे देश में कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। इससे दुनिया भर के बाजारों पर गहरा असर पड़ा है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक देश में अभी तक हमारे देश मे इससे 5500 लोग सक्रमित हो चुके हैं और 18 लोगों की मौत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही 14 अप्रैल तक पूरे देश में पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा कर चुके हैं। अब इस कोरोना वायरस के चलते पूरे विश्व को मंदी के दौर से गुजरना पड रहा है । तथा इसकी स्थिति ठीक होने मे काफी समय लग सकता है । Share Market After Lockdown

share market after lockdown

विश्व मे अग्रणी अमेरिकी सीनेट ने बचाव पैकेज को मंजूरी दी है

अमेरिका मे अमेरिकी सीनेट ने बुधवार को देश के अब तक के सबसे बड़े बचाव पैकेज को मंजूरी दी। कोरोना वायरस के कारण खराब हो रही अर्थव्यवस्था, खस्ताहाल अस्पताल और संकट से जूझ रहे अमेरिकियों के लिए दो हजार अरब डॉलर के पैकेज को अनुमति दी गई है। यह राशि कोरोनावायरस के चलते हुए नुकसान व लोगो को राहत पहुचाने का कार्य अवश्य करेगी ।

इसी के चलते शुरुआती दौर मे रुपया 13 पैसे मजबूत

अमेरिकी सीनेट के राहत पैकेज व भारत सरकार द्वारा दी जा रही राहत पैकेज से, कही न कही शुरुआती कारोबार में – डॉलर के मुकाबले रुपया 13 पैसे सुधरकर 75.81 पर खुला। कोरोना वायरस से निपटने के लिए, प्रोत्साहन पैकेज दिए जाने के आश्वासन और शेयर बाजारों के सकारात्मक रुख के साथ खुलने से निवेशकों की धारणा में सुधार देखा गया। यदि शेयर बाजार मे तेजी आती दिखाई देगी तो निवेशक भी सकारात्मक रुख अपनाने लगेगे ।

coronavirus affect economy and share market
coronavirus affect economy and share market

lockdown पूरी तरह कब खुलने की आशंका-

यदि इसी तरह कोरोना सक्रमित लोगो की संख्या मे तेजी से इजाफा होता रहा , तो सरकार lockdown को हटाने के विषय मे अभी फिलहाल कुछ दिन नही सोचेगी । तथा इसके विपरीत सरकार Lockdown को कुछ दिनो के लिये आगे बढा देगी । क्यो कि यदि इस स्थिति मे लॉकडाऊन को  हटाया गया तो कोरोना वायरस का खतना और भी  ज्यादा बढ जायेगा  । इसलिये सरकार लोगो की परेशानी को देखते हुए सम्पूर्ण लॉकडाऊन न हटाकर, अभी कुछ हिस्सो मे धीरे धीरे हटाने की सम्भावना है । यदि हम पूरी तहर लॉकडाऊन हटाने की बात करे तो जब तक कोरोना सक्रमित लोगो की सख्या मे कमी नही आ जाती है । तबतक सरकार लॉकडाऊन को हटाने की अभी नही सोच रही है ।

यदि एक्सपर्ट की राय माने तो जब Lockdown पूरी तरह हट जायेगा तब भी शेयर बाजार को तेजी पकडने मे 3 से 6 माह का वक्त लगेगा । क्यो कि इस लॉकडाऊन के चलते अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान हुआ है । सभी तरह के प्रोडक्सन हाऊस पूरी तरह बन्द रहने के कारण बाजार मे आवश्यक वस्तुओ की कमी भी आयी है । जिसकी भरपाई करने मे अभी समय लग सकता है । जब तक पूरा सिस्टम पुनः अपने पुराने हाल पर नही आ जाता तब तक शेयर बाजार भी कुछ खास तेजी नही दिखा पायेगा । ऐसा जानकारो का कहना है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *